लडाई लम्बी चली

Good night

एक बार औरतों ने मर्द के खिलाफ बगावत करके मोर्चा निकाला और ब्रह्मा के पास गयी . . . . .

उन्होने समाज में बराबरी के लिये बहुत सारी माँगें रखी, जैसे . . . . . . .

जिसमें एक माँग ये भी थी कि बच्चे को 9 महीने पेट में हमलोग रखते हैं . . . . . .

तमाम तकलीफ सहकर पैदा करती हैँ और नाम बाप का होता है । ऐसा नहीं चलेगा . . . . . .

लडाई लम्बी चली, समाधान की कोशिश होती रही . . . . . . .

तब जा के कुछ मुद्दों पर समझौता हुआ . . . . .

जिसमें तय हुआ कि बच्चा औरत ही पैदा करेगी लेकिन दर्द बच्चे के बाप को होगा ।. . . . .

अब क्या था इँतजार होने लगा ! . . . . . .
इसी बीच पता चला कि गुप्ता जी की बीबी को बच्चा पैदा होने वाला है ।. . . . . .

निश्चित तारीख को जनता का हुजूम उमड़ पडा ।. . . . . .

डा. का पूरा पैनल गुप्ता जी को घेर कर बैठ गया . . . . . . .

उनके दर्द उठने का सब बेसब्री से इंतजार करने लगे. . . . . . .

इसी बीच खबर आई कि गेट के बाहर गुप्ता जी का ड्राइवर लोट-लोट कर चिल्ला रहा है. . . . . . . .

पूरी जनता और डा. ड्राइवर के पास दौड कर पँहुच गयी ।. . . . . .

डाक्टरो ने बहुत प्रयास के बाद स्थिति को नियन्त्रण में किया । तब जा के बच्चा पैदा हुआ ।. . . . . . .

दूसरे दिन सारी औरतेँ दुबारा ब्रह्मा के पास गयी . . . . . . . . .

अपनी गलती मानी और बोली कि जैसा पहले चल रहा था चलने दीजिए . .
😄😃😜

अच्छी कामवाली की

women-rights-in-husband-property-after-divorce

भारतीय लड़कियों को जीवन में दो लोगों की शिद्दत से तलाश रहती है। शादी से पहले अच्छे पति की और शादी के बाद अच्छी कामवाली की। अच्छा पति अगर ज्यादा अच्छा हो तो वो लड़की को दूसरी तलाश से बचा भी सकता है। मैं चूंकि उतना अच्छा नहीं हूं, लिहाजा मेरी बीवी की दूसरी तलाश अब भी जारी है। पिछले एक साल में न जाने कितनी कामवालियां आईं, कितनी गईं और कितनी निकाली गईं मगर बात नहीं बनी। हर किसी के साथ अलग रंग और डिजाइन की समस्या है। कोई सूरज की परछाई से समय का अंदाजा लगाती है और देर से पहुंचती है। किसी की मान्यता है कि काम किया नहीं निपटाया जाता है। कोई संगीत प्रेम के चलते नित-नया सामान तोड़ विभिन्न ध्वनियों का आनंद लेती है। ता कोई हाव-भाव से पहले दिन ही बता देती है कि सवारी अपने सामान की खुद जिम्मेदार है। वहीं कुछ ऐसी भी हैं जिनकी दिलचस्पी काम में कम और कलंक कथाएं सुनाने में ज्यादा रहती है और बकौल बीवी इंट्रेस्ट न लेने पर वो हर्ट भी हो जाती है। लकिन जो यह कामवालियों को डैडली बनाती है वो है उनका बिना बताए छुट्टी लेना। सुबह के सात बजे हैं। बीवी की दाईं आंख फड॥क रही है। मैं कहता हूं लगता है कुछ बुरा होने वाला है। वा कहती है कि शादी को तो एक साल हो गया फिर आज क्यों फड॥क रही है। मैं चुटकी लेता हूं, क्योंकि तब मेरी फड॥क रही थी। इस बीच घड़ी नौ बजाने लगती है। अखबार वाला, कचरे वाला, दूध वाला एक-एक कर ‘सब वाले’ आ चुके हैं मगर ‘उस वाली’ का कोई पता नहीं। फड॥कती आंख को वजह मिल गई है। धड॥कनें बढ़ने लगी है। मैं सहम गया हूं। रसोई में पड़े बर्तन कोरस में नीरज़.़ नीरज चिल्ला रहे हैं। दस बज चुके हैं। अब वो नहीं आएगी। इस हफ्ते दूसरी और महीने में उसकी पांचवी छुट्टी है। बीवी ने उसे वीआरएस देन का मन बना लिया है। वो आत्मविश्वास खोने लगी है। सोचने लगी है कि शायद उसी में कोई खोट है जिस वजह स कोई काम वाली टिकती नहीं। आंशिक सहमति के बावजूद मैं इसे बुरा ख्याल बताता हूं। समझ नहीं पा रहा हूं क्या किया जाए। अगली कामवाली से बीवी की जन्मपत्री मिलवाऊं, दोनों को कोई नग पहनाऊं, हवन करवाऊं, लाल रंग के कुत्त को ग्रिल्ड सैंडविच खिलाऊं या फिर हरी ईंट पर गुलाबी दिया जलाऊं। कभी-कभी तो मुझे ये भी लगता है इस सबके लिए मैं ही दोषी हूं। शादी के शुरू में मैंने ही इतने हाई स्टैंडर्ड सैट कर दिए, जिसका शिकार ये सब कामवालियां हो रही हैं।

कामवाली काम पर नहीं आई

कामवाली काम पर नहीं आई
कामवाली
काम पर नहीं आई

एक दिन अचानक कामवाली
काम पर नहीं आई
तो पत्नी ने फोन करके डांट लगाई
अगर तुझे आज नहीं आना था
तो पहले बताना था
वह बोली-
मैंने तो परसों ही
फेसबुक पर लिख दिया था कि
एक सप्ताह के लिए गोवा जा रही हूं
पहले अपडेट रहो
फिर भी पता न चले तो कहो ?
पत्नी बोली-
तो तू फेसबुक पर भी है
उसने जवाब दिया-
मैं तो बहुत पहले से फेसबुक पर हूं
साहब मेरे फ्रैंड हैं!
बिलकुल नहीं झिझकते हैं
मेरे प्रत्येक अपडेट पर
बिंदास कमेंट लिखते हैं
मेरे इस अपडेट पर
उन्होंने कमेंट लिखा
हैप्पी जर्नी, टेक केयर,
आई मिस यू, जल्दी आना
मुझे नहीं भाएगा पत्नी के हाथ का खाना
इतना सुनते ही मुसीबत बढ़ गई
पत्नी ने फोन बंद किया
और मेरी छाती पर चढ़ गई
गब्बर सिंह के अंदाज में बोली-
तेरा क्या होगा रे कालिया!
मैंने कहा- देवी!
मैंने तेरे साथ फेरे खाए हैं
वह बोली-
तो अब मेरे हाथ का खाना भी खा!
अचानक दोबारा फोन करके
पत्नी ने कामवाली बाई से
पूछा, घबराए-घबराए
तेरे पास गोवा जाने के लिए
पैसे कहां से आए?
वह बोली- सक्सेना जी के साथ
एलटीसी पर आई हूं
पिछले साल वर्मा जी के साथ
उनकी काम वाली बाई गई थी
तब मैं नई-नई थी
जब मैंने रोते हुए
उन्हें अपनी जलन का कारण बताया
तब उन्होंन ही समझाया
कि वर्मा जी की कामवाली बाई के
भाग्य से बिलकुल मत जलना
अगले साल दिसंबर में
मैडम जब मायके जाएगी
तब तू मेरे साथ चलना।
पहले लोग कैशबुक खोलते थे
आजकल फेसबुक खोलते हैं
हर कोई फेसबुक में बिजी है
कैशबुक खोलने के लिए कमाना पड़ता है
इसलिए फेसबुक ईजी है
आदमी कम्प्यूटर के सामने बैठकर
रात-रात भर जागता है
बिंदास बातें करने के लिए
पराई औरतों के पीछे भागता है
लेकिन इस प्रकरण से
मेरी समझ में यह बात आई है
कि जिसे वह बिंदास मॉडल समझ रहा है
वह तो किसी क काम वाली बाई है
जिसने कन्फ्यूज करने के लिए
किसी जवान सुंदर लड़की की फोटो लगाई है
सारा का सारा मामला लुक पर है
और अब तो मेरा कुत्ता भी फेसबुक पर है

कामवाली

MOI000031082

कामवाली नही आई हो
और बीबी पोछा लगा रही हो
.
.
.
.
तो साला पैर बचाकर ऐसे निकलना पड़ ता है
मानो नक्सलियों ने लैंडमाइन
बिछा रखा हो
और गलती से बारूद फट न जाए😄😜😄😄