mazekro.jpg

ते रहे तुम भी

रोते रहे तुम भी, रोते रहे हम भी;
कहते रहे तुम भी और कहते रहे हम भी;
ना जाने इस ज़माने को हमारे इश्क़ से क्या नाराज़गी थी;
बस समझाते रहे तुम भी और समझाते रहे हम भी।

Comments

comments


Leave a Reply

Your email address will not be published.

2 × 1 =